सुबह खाली पेट भीगे हुए चने खाने से होते है, ये हैरान कर देने वाले फायदे !

आयुर्वेद के अनुसार चने की दाल और काबली चने इंसान की सेहत के लिए काफी फायदेमंद माने जाते है. दरअसल चने में कई प्रकार के प्रोटीन्स और विटामिन्स पाए जाते है और चने खाने से कई तरह के रोग भी ठीक हो जाते है. वैसे आपको बता दे कि चना बाकी दालों से सस्ता होता है और इसमें पौष्टिक आहार भी बाकी दालों से ज्यादा होता है . जहाँ एक तरफ चने से हमें बीमारियों से लड़ने की क्षमता मिलती है, वही दूसरी तरफ ये चेहरे की सुंदरता बढ़ाता और दिमाग को तेज करता है. गौरतलब है कि चने को अंकुरित करके खाने से हमें ज्यादा फायदा होता है. इसके इलावा सुबह खाली पेट चने खाने से हमें कई तरह के फायदे होते है.

जी हां बता दे कि सर्दियों में चने के आटे का हलवा अस्थमा के लिए फायदेमंद होता है. इसके इलावा चने के आटे की नमक रहित रोटी चालीस से साठ दिनों तक खाने से त्वचा संबंधी बीमारिया जैसे दाद, खाज खुजली आदि भी नहीं होती. बता दे कि भुने हुए चने रात को सोते समय चबा कर खाने और इसके साथ ही दूध पीने से साँस नली के कई रोग और कफ दूर होता है. इसके साथ ही चने में शहद मिला कर खाने से नपुंसकता भी समाप्त हो जाती है. गौरतलब है, कि पीलिया के रोग के समय चने की दाल खाना बेहद फायदेमंद है. इसके इलावा चीनी के बर्तन में रात को चने भिगोकर रख दे और सुबह उठ कर इसे खूब चबा चबा कर खाएं. इसके सेवन से वीर्यता में बढ़ोतरी होती है और पुरुषो की कमजोरी से जुडी सभी समस्याएं खत्म हो जाती है.

इसके साथ ही भीगे हुए चने खा कर दूध पीते रहने से वीर्य का पतलापन दूर होता है. वही पीलिया की बीमारी में चने की सौ ग्राम दाल में दो गिलास पानी डाल कर अच्छी तरह से चनो को कुछ घंटे के लिए भिगो दे. फिर दाल से पानी को अलग कर ले. इसके बाद उस दाल में सौ ग्राम गुड़ मिला कर चार से पांच दिनों तक रोगी को देते रहे. बता दे कि इससे पीलिया के रोग से छुटकारा जरूर मिलेगा. इसके इलावा रोज भुने हुए चने खाने से बवासीर से भी छुटकारा मिल जाता है. जी हां दस ग्राम चने की भीगी दाल लेकर उसमे दस ग्राम शक्कर मिला कर चालीस दिनों तक खाने से धातु पुष्ट हो जाते है. इसके साथ ही पच्चीस ग्राम काले चने रात को भिगो कर सुबह खाली पेट खाने से डायबिटीज जैसी बीमारी भी ठीक हो जाती है.

गौरतलब है, कि रातभर भीगे हुए चनो को पानी से अलग करके उन चनो में अदरक, जीरा और नमक मिक्स करके खाने से कब्ज और पेट दर्द से काफी राहत मिलती है. इसके इलावा गर्म चने रुमाल या किसी कपडे में बाँध कर सूंघने से जुकाम ठीक हो जाता है और मोटापा कम करने के लिए रोज नाश्ते में चने खाने चाहिए. इसके साथ ही शरीर की ताकत बढ़ाने के लिए अंकुरित चनो में निम्बू, अदरक के टुकड़े, हल्का सा नमक और काली मिर्च डाल कर सुबह नाश्ते में खाएं. इससे आपको पूरे दिन एनर्जी मिलेगी. बता दे कि चने का सत्तू भी एक औषधि के समान है.

इसलिए शरीर की क्षमता और ताकत बढ़ाने के लिए गर्मियों में चने के सत्तू में निम्बू और नमक मिला कर भी पी सकते है. यह भूख को भी शांत रखता है. इसके इलावा गर्भवती महिला को उलटी होने पर चने का सत्तू ही पिलायें. गौरतलब है कि रात भर भिगोये चनो में थोड़ा सा शहद मिला कर खाने और नियमित रूप से इनका सेवन करने से पत्थरी भी आसानी से निकल जाती है. बता दे कि काले चने शरीर की गंदगी को अच्छी तरह से साफ़ करते है और इससे डायबिटीज तथा अनीमिया जैसे रोग नहीं होते. इसके इलावा इससे बुखार में भी राहत मिलती है.

इसलिए यदि आप रोज चने का सेवन करते है, तो आपकी सेहत का हुष्ट पुष्ट होना लाजिमी है.

Inderpreet Sharma